कपिल मिश्रा का पूरा ब्लॉग

‘’सगे संबंधियों पर छापे पड़ रहे हैं, भ्रष्टाचार के रोज नए मामले सामने आ रहे हैं, जनता से पूरी तरह कटे सीएम बिल्कुल चुप, बड़े दिनों बाद घर से निकले सरकार- 3 देखने. जी हां, सरकार -तीन, अब इसे क्या कहे, मुंगेरीलाल के हसीन सपने.

मैं सोच रहा था कि आखिरी बार अरविंद केजरीवाल जी दफ्तर कब गए थे? सचिवालय की सीढ़ियां कब चढ़ी थी? दिल्ली वालों को शायद अंदाज़ भी न हो कि उनका सीएम पिछले एक साल में मुश्किल से दो दिन आफिस गया है.

अब जब चारों तरफ से लोग आ आकर मुझे जानकारियां दे रहे हैं तो एक चीज समझ आ रही है, जिस काम में भ्रष्टाचार संभव था, वो काम न एलजी रोक पाए न केंद्र सरकार. और जिन कामों में भ्रष्टाचार नहीं होता वो सब एलजी और केंद्र सरकार के बहाने फांस दिए गए. मोहल्ला क्लिनिक की जो डिटेल्स सामने आ रही हैं उन्हें देखकर कोई नहीं कह सकता कि एलजी या केंद्र या कानून या कोर्ट किसी का कोई भी डर बाकि था. हर कानून की समानता के साथ धज्जियां उड़ाई गई.

अरविंद जी बंद कमरों में आज कल अपने साथियों से एक बात कह रहे हैं, जनता से मत डरो, जनता 15 दिन में सब भूल जाती है. इसीलिए वो चुप है कि 15-20 दिन में लोग भूल जाएंगे.

दुष्यंत ने कहा है कि “तुम्हारे पांव के नीचे ज़मीन नहीं, कमाल ये कि तुम्हे फिर भी यकीन नहीं “

देश का सबसे कम जनता से मिलने वाला सीएम, देश का सबसे कम दफ्तर जाने वाला सीएम, देश का अकेला सीएम जिसके पास कोई विभाग नहीं, देश का सबसे कम काम करने वाला सीएम, वैसे तो हमेशा ही छुट्टी पर रहते है, पर उसके बावजूद आधिकारिक तौर पर भी छुट्टियां लेते हैं और इस मामले में भी देश मे सबसे ज्यादा छुट्टियां लेने वाला सीएम. और जैसी जानकारियां सामने आ रहीं है शीघ्र ही वो ऐसे सीएम बनने वाले है जिन पर देश में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार के मामले चल रहे होंगे.

क्या अपनी खुद की परोफोर्मेंस रिपोर्ट जनता के सामने रखने का माद्दा है अरविंद केजरीवाल में? हर सवाल का एक जवाब- आपराधिक चुप्पी.

आप नहीं बोले. बोलने का कष्ट करियेगा भी नहीं, क्योंकि अब जनता बोलेगी.

जिन दिल्ली वालों का ये पैसा था जो खुलेआम लुट गया, जिन दिल्ली वालों का ये भरोसा था जो सरेबाजार तोड़ा गया, जिन दिल्ली वालों के कंधे पर चढ़कर लाल किले के सपने बुने गए, अब वो दिल्ली वाले बोलेंगे.

और हां, याद रखना जनता भूलती नहीं.

जी हां, अब जनता बोलेगी.

कपिल मिश्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *