हां मै युवा हूं

शीर्षक से देश की युवा के मन भाव प्रदर्शित करने का मेरा एक छोटा सा प्रयास-:

मत दो मुझे एक दिन का दुलार
दो मुझे एक छोटा सा रोजगार
कहने को तो है योजना हजार
क्या आंकड़े बतायेगी सरकार,,

उड़ते हौसलों के पंख को कटते देख फिर भी गर्व से कहता हूं “हां मै युवा हूं”
___________________________

मेला आयेगा जब लोकतंत्र का
भांडा फूटेगा पिछले षड्यंत्र का
विफल कहानी सरकारी तंत्र का
ज्ञान देंगे सफलता के मूलमंत्र का,,

सफलता के सरकारी सपनों मे अपरमानों का सौदा अपनी मत से लगाते गर्व से कहता हू “हां मै युवा हूंं”
___________________________

हर आंकड़े आपके एक कहानी है
उम्मीदों के साथ तो एक बेईमानी है
जनता भोली लोकतत्र ही सयानी है
इस उम्मीद पर जी रहा हिंदुस्तानी है,,

आकड़ो के बलबूतो पर देश को विकसित बनते दिवास्वप्न देखते गर्व से कहता हूं “हां मै युवा हूं”
___________________________

आप कहते है देंगे करोड़ो रोजगार
सत्ता मिलते ही फिर क्यो है लाचार
अब तो करिये प्रभु प्रार्थना स्वीकार
मै नही बोल रहा हर युवा बेरोजगार,,

लाचारी के दामन निती और नैतिकता का समर्थन करते हुवे गर्व से कह रहा है “हां मै युवा हूं”
____________________________

मनीष की कलम से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *