तीसरा और पापुलर मिथ

#मिथक
(1) किसी जमाने में जो क्रेज़ मनी प्लांट का था आजकल फेंगशुई की वजह से उससे भी ज्यादा क्रेज़ और मारामारी क्रसुला(Crassula) के पौधे के लिये है . इस प्लांट के बारे में फेंगशुई में ये बात प्लांट कर दी गई है की ये पौधा पैसों को खिंचता है . 2-3 साल पहले ये पौधा 15-20 रुपये में मिल जाता था ..आजकल कोई भी माली इसके लिये 700-800 रुपये के नीचे बात नही करता और अगर गमले में लगा , जमा हुआ पौधा हो तो 1500 से 2000 तक . ये सब बातें सिर्फ एक मिथक है इससे ज्यादा कुछ नही .

मनी प्लाण्ट के बारे में भी कहा जाता है कि इसको चुरा कर लगाओ तो ये पैसा देगा और जिसके घर में पौधा हरा-भरा , लम्बी बेल हो गई उसके यहाँ फिर पैसों की कमी नही होगी.😂. आज से तीन चार साल पहले तक मेरे यहाँ भी सारे पौधे शानदार थे लेकिन सिर्फ मनी प्लांट ही बार बार खराब हो जाता था . 4 गमलो में लगा हुआ था . उस समय मेरी इन्कम भी भरपूर हो रही थी . इतना टाइम भी नही मिलता था कि कभी पौधों पर ध्यान दूँ ..मास्टरी है मेरी गार्डनिंग में . सुबह जल्दी भागना , रात को लेट आना , संडे को भी घर पर रहना नसीब नही होता था. फिर अचानक काम थोड़ा डाउन हुआ. वो स्थिति आजतक बनी हुई है . फिर मुझे टाइम मिलने लगा. सुबह लेट जाना , संडे भी घर पर , जब मर्जी तब छुट्टी कर लेना. मेरा गार्डनिंग का शौक भी परवान चढ़ा. मनी प्लांट की क्लास लगाई सबसे पहले . गोबर की खाद वाले गमलो में लगाया . टाइम टू टाइम खाद , कैल्शियम देना शुरू किया . पानी कितना और कब डालना है ..ये भी शेड्यूल किया . तबसे मनी प्लांट इतना बेहतरीन हो गया है कि देखने वाले जल-भून जाते है . जब मनी प्लांट खस्ता हाल था तब मैं आज से 150% ज्यादा कमाता था .. आज सिर्फ मनी प्लांट ही खिला हुआ है मैं नही . तो ये सिर्फ एक मिथक है कि मनी प्लांट का पैसों से कोई लेना देना है . वो सिर्फ एक शो प्लांट है .. उसे वही रहने दीजिये.

(2) अमरूद के बारे में एक मिथक है कि सर्दियों में आपने अमरूद खाये तो ये आपको कफ कर देगा . आपकी नाक बहने लगेगी , कफ की वजह से खाँसी भी हो जायेगी . इसलिये बहुत से घरों में बुजुर्गो और बच्चों को सर्दियों में अमरूद खाने नही दिया जाता जबकि ये सर्दियों का ही मौसमी फल है . असल बात तो ये है कि अमरूद का ये गुण है , खासियत है कि अमरूद फेफड़ों , छाती में जमा पुराने से पुराने कफ को बाहर निकालता है इसलिये अमरूद खाते ही जो कफ या सर्दी हो जाती है वो अमरूद खाने की वजह से नही , अमरूद की कफ पर सर्जीकल स्ट्राइक की वजह से होती है इसलिये भरपूर सभी मौसमी फल खाईये . कोई फल नुकसान नही करता .

(3) तीसरा और पापुलर मिथ आजकल ये है कि मोदी सरकार आने के बाद से देश में असहिष्णुता , अल्पसंख्यकों पर अपराध के मामले बढ़ गये है . जगह से जगह से कुकुरमुत्तों की तरह देश के खिलाफ भौंकने वाले पैदा हो रहे है . तो भैया ये देशद्रोह का कफ तो पिछले सत्तर साल से देश के फेफड़ों में फँसा हुआ है . तीन साल पहले जो देश को अमरूद खिलाने का काम हमने किया है .. ये उसी का नतीजा है . ये विपक्षियो की ड्रामाबाजी भी सिर्फ एक मिथक है .. इससे ज्यादा कुछ नही .
Ashish Retarekar

Reference- Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *