भारत का सबसे ऊंचा और दुनियां का दूसरा सबसे ऊंचा बाँध सरदार सरोवर बाँध

देश को समर्पित — सरदार सरोवर बाँध —

भारत का सबसे ऊंचा और दुनियां का दूसरा सबसे ऊंचा
बाँध सरदार सरोवर बाँध आज देश को समर्पित हो गया –
इसकी ऊंचाई 138 मीटर है और मेधा पाटकर जैसी 
देश के विकास में टांग अड़ाने वाली नालायक कथित
सामाजिक कार्यकर्त्ता ने इसके निर्माण को रोकने की भरपूर
कोशिश की खासकर जबसे मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने –

मैं इस बाँध के ज्यादा तकनीकी पहलुओं में नहीं जाऊंगा,
केवल ये कि इससे गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्यप्रदेश
को लाभ होगा –57% बिजली मध्यप्रदेश, 27% महाराष्ट्र और
16% गुजरात को मिलेगी एवं सिचाईं और पीने का जल अलग
मिलेगा –राजस्थान को बिजली नहीं केवल पानी मिलेगा —

अब आप देखिये जब माननीय सरदार पटेल ने इस बाँध की
परिकल्पना की थी 1945 में, उस समय केवल 2 राज्य बॉम्बे
और 30 मार्च 1949 को बना राजपुताना हुआ करते थे —
गुजरात और महाराष्ट्र दोनों 1/5/1960 को बने और मध्यप्रदेश
एवं राजस्थान राज्य पुनर्निर्माण एक्ट के अंतर्गत 1/11/1960 को
अस्तित्व में आये –इस बाँध का निर्माण 1961 में शुरू हुआ
और तब तक ये चारो राज्य बन चुके थे मगर इसकी परिकल्पना
परिकल्पना के समय नहीं थे —

इस बाँध का पूरा होना देश में काम कर रहे देशविरोधी तत्वों को
एक चेतावनी है कि वो लोग काम में रोड़े अटका सकते हैं मगर
सरकार का निश्चय अगर द्रढ़ है तो कोई ताकत नहीं जो काम
रोक सके –मेधा पाटकर जैसे लोगों को अब अपना बोरिया बिस्तर
समेत कर देश से पलायन कर लेना चाहिए जिसने गुजरात में
मोदी के आने के बाद बाँध का काम रोकने के लिए सारे घोड़े खोल
दिए थे —

अब 1961 में किसे पता था कि जब ये बाँध देश को समर्पित होगा
उस समय इन चारों राज्यों में भाजपा की सरकारें होंगी और उनकी
सरकारें इस बाँध का लाभ उठा सकेंगी –1945 में तो यानि परिकल्पना
के समय तो भाजपा अस्तित्व में ही नहीं थी –अब ये कांग्रेस के लिए
बहुत अफ़सोस की बात है —

कांग्रेस की हालत ऐसी हो गई –किसको खबर थी, किसको यकीं था
जीना भी मुश्किल होगा, मरने भी ना पाएंगे —

(सुभाष चन्द्र)
17/09/2017

Reference- Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *