जब लड़का या लड़की किसी के प्यार में होते है और माँ-बाप को वो रिश्ता पसंद नही होता तब इससे छुटकारा पाने का उन्हें एक रास्ता नज़र आता है .. शादी कर दो . शादी कर दी जाती है . फिर सबको नज़र आता है कि वो लड़का या लड़की अपनी दुनियादारी में रम गये है , नयी जिम्मेदारियों में खो गये है , बच्चों की परवरिश और गृहस्थी में व्यस्त हो गये है . माँ बाप भी बड़े खुश होते है .. देखा भूल गया ना सबकुछ .. फालतू में उसके चक्कर में पड़ा था लेकिन बच्चों के दिल में एक टीस रह जाती है हमेशा के लिये .. वो ना तो किसी को नज़र आती और ना ही वो दिखाना चाहते है.

फेसबुक ऑफिशियली बंद है कई दिनों से . ये जो बीच बीच में
अनऑफिशियली एकाध चार लाइन की पोस्ट डालकर भाग जाता हूँ .. ये वैसे ही जैसे सीढियों से उतरते हुए किसी के दरवाजे की कॉलबेल बजा दी या दरवाजा खटखटाकर चुपचाप निकल गये. अब बीवी को लगता है कि फेसबुक बंद है तो कितनी शांति है .. कितना टाइम है अब मेरे पास . ताने अब भी दिये जा रहे है कि .. देखा फेसबुक चलाते तो ये किताबें कब पढ पाते ? ये मूवी कब देखते ? बेटे की आर्ट फाइल कब डेकोरेट करते ? मतलब जो भी काम कर रहा हूँ उसका कनेक्शन फेसबुक से जोड़ दिया जाता है .. जबकि ये सब पहले भी करता था लेकिन मैं भी मुस्कुराकर बोलता हूँ .. हाँ ये बात तो सही है .. इस फेसबुक के चक्कर में मैँ तो ये सब भूल ही गया था . अब बात फिर वही है कि अपनी पसंद की चीज़ छूटने पर टीस तो उठती ही है चाहे वो अपनी मर्जी से छोड़ी गयी हो या जबरदस्ती छुडवाई गयी हो लेकिन वो टीस किसी को नज़र नही आती.

तो भैया आजकल ‘कालजयी’ और ‘चार्ट बस्टर’ पोस्ट लिखना बंद है जो कि आपातकाल लागू रहने तक बंद रहेगा. 😂😂
Ashish Retarekar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *