ट्रेन चलने की विपरीत दिशा मे

नागपुर स्टेशन पर हमेशा की तरह, मै ओरेंज जूस पीने उतरा था..!! अक्सर दो ग्लास मे संतुष्टी हो जाती है, लेकिन उस दिन मैने तीसरा भी ऑर्डर कर दिया था..!!

जैसे ही तीसरा ग्लास मुंह से लगाया, जूस वाले चचा बोले..

बेटा ट्रेन छूट रही है..!!

मैने निश्चिंत होकर पीछे देखा ..!!

ट्रेन गतिमान हो चुकी थी ..!!

कोई ज्यादा चिंता का विषय नहीं था मेरे लिये..!!

कॉलेज के जमाने की प्रेक्टिस आज भी काम आ रही है..जब हम झुंड के झुंड ..भुसावल और जलगांव के स्टेशन पर चलती ट्रेनो (अच्छी खासी स्पीड) से चढते-उतरते थे..!!

उसमे भी..पक्के प्लेटफॉर्म पर नहीं..पटरी के पत्थरों पर…!!

खैर..

जैसे ही मै पीछे मुड़ा….एक भद्र महिला जिनकी गोद मे लगभग डेढ-दो बरस की बच्ची थी ..ट्रेन के साथ दौड़ रही थी ..!!

उसकी बगल मे ही ..एक लगभग छ:-सात बरस का बच्चा..!!

महिला ..बच्ची के साथ ट्रेन मे चढ़ गई..!!

बस… यहीं मुझे लगा……

पवन…दिस इज अलर्ट… समथिंग गोईंग टू बी टैरीबली रोंग..!!

मेरी छठी इंद्री ने .. मुझे संकेत दे दिया था..!!

जैसे ही वो महिला ..ट्रेन मे चढ़ गई..पीछे से उसका बेटा चिल्लाने लगा..

मम्मी…..मम्मी..!!

मैने तुरंत..अपने हाथ मे थामा.. ओरेंज का ग्लास बगल वाले ..बिन मे फैंका….

वो महिला..बच्ची को ट्रेन मे छोड़कर वापस ..उतरी….

और वो भी .. ट्रेन चलने की विपरीत दिशा मे..

बुरी तरह लड़खड़ाई….

अपने बेटे को उठाया और जैसे ही ट्रेन मे चढ़ने लगी..

पैर स्लिप हो गया….

एक पैर .. ट्रेन की सीढीयों ओर प्लेटफॉर्म के बीच फंस चुका था..उपर से बच्चा गोद मे..

एक सज्जन और मै …दोनो …एक साथ चील की तरह झपट्टे….

हम दोनो ने ..महिला को जकड़ लिया..मेरे दोनो हाथ महिला को कमर से पकड़ चुके थे…

उन भाई साहब और मेरा सिंक्रोनाईजेशन इतना तगड़ा था कि..जैसे ही मैने महिला को लगभग उठा लिया …आधे सैकंड मे ही उन भाई साहब ने बच्चा महिला के हाथ से छीन लिया ..

तब तक ..गेट पर खड़े दो लोगों ने महिला को ऊपर खींच लिया…

ये सब कुछ..पांच से दस सैकंड के बीच हो गया…

महिला के पैर मे खरोंचे आई थी..

मै दो डब्बे छोड़कर..ट्रेन मे चढ़ पाया…

जब वहां से गुजर रहा था…तो महिला अपने दोनो बच्चों से चिपक कर…रोये जा रही थी..

और कह रही थी..

“अल्लाह ताला का लाख-लाख शुक्र है”

References –

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *