समय के साथ बदलने की तैयारी करो।

On

आज से 5 या 10 साल पहले ऐसी कोई ऐसी जगह नहीं होती थी जहां PCO न हो। फिर जब सब की जेब में मोबाइल फोन आ गया, तो PCO बंद होने लगे.. फिर उन सब PCO वालों ने फोन का recharge…

अपन तो बने ही थे हथौड़ा चलाने के लिये

On

“अमृत स्ट्रक्चर निर्माण” (ASN) मे मैने लगभग बीस दिन वॉलन्टियर की तरह काम किया..!! उसके बाद मथुरा रिफाईनरी के एक एक्स्ट्रा टरमिनल मे मैने “रिज़ोम इन्जिनियर्स प्रा़ लि. नामक एक कन्सट्रक्शन कंपनी मे तीन महिने काम किया..!! ढाई हजार तनख्वाह थी..लड़-झगड़ कर…

मै हुनरमंद हूं बड़े से “आचार्य” सरनेम के साथ

On

कॉलेज से निकलने के बाद, बेरोजगारी का साया मुझ पर भी छाया था..!! मैने भी आठ-दस सरकारी नौकरियों के फार्म भर दिये थे..!! अधिकतर उसमें RRB के थे, कोई RRB गौरखपुर, RRB सिकंदराबाद, RRB अजमेर..और भी कई..!! एग्जाम देने जाओ तो घर…