तो ये भ्रष्टाचार हमें मंजूर है ..

कल एक बंदे ने कमेंट किया ..

‘क्या हुआ है मध्यप्रदेश में 15 साल में ? व्यापमं का घोटाला मध्यप्रदेश में हुआ मतलब एमपी भ्रष्टाचार में नंबर एक है । व्यापमं से जुड़े 50 लोग मारे गये .. मतलब कानून-व्यवस्था सबसे खराब है मध्यप्रदेश में । ‘

बंदा ये कमेंट करते वक्त ये भुल रहा है कि व्यापमं का जो व्हीस्लब्लोअर आरटीआई कार्यकर्ता था , जो दिग्विजयसिंह के इशारे पर काम कर रहा था उसे एक महीने पहले ही एमपी हाईकोर्ट ने झूठे आरोप लगाने , फर्जी सबूत दिखाने और उसके घर में मिले 5 लाख कैश के सोर्स का सही जवाब ना देने पर सजा सुनायी है ।

दो साल पहले मैंने इन बिके हुए आरटीआई कार्यकर्ताओं पर इनके नाम और फोटो के साथ पोस्ट की थी तब इसी आरटीआई कार्यकर्ता ने मुझे लंबा मैसेज करके बताया था कि .. ‘ मैं तो सिस्टम से लड़ रहा हूँ । ये सरकार मेरी आवाज बंद करना चाहती है । मैं बहुत दबाव में काम कर रहा हूँ । वो पैसा जो मेरे घर से मिला था वो मेरी मिसेस ने लोन लिया था हमारा मकान बनवाने के लिये और सबसे आखरी में उसने लिखा था .. हाँ मैं दिग्विजयसिंह का करीबी हूँ , केजरीवाल का करीबी हूँ , मुझे इनका समर्थन है क्योंकि ये मेरी सच के लिये लड़ी जा रही लड़ाई में मेरे साथ है । आशीषजी जिन छात्रों के इस घोटाले में पैसे बर्बाद हुए , कैरियर बर्बाद हुए उनके बारे में सोचों और ये पोस्ट हटा दो । अगर आपने ये पोस्ट नही हटायी तो में भोपाल थाने में आपके खिलाफ FIR दर्ज करवा रहा हूँ । ‘

इसके बाद मैंने भोपाल के अपने पत्रकार दोस्त से बात की । उन्होंने एक दिन बाद मुझे बोला कि..’ मेरी तब के गृह मंत्री बाबूलाल गौर से बात हो गई है । आपको पोस्ट हटाने की जरूरत नही है । भोपाल के किसी भी थाने में ये FIR दर्ज नही कर पायेगा ।

उसी समय बाबूलाल गौर जी का एक विडिओ वायरल हुआ था जिसमें वो कथित तौर पर एक महिला को लात मारते हुए दिख रहे है । वो विडिओ भी इन्हीं लोगों ने बढ़ा चढ़ाकर वायरल किया था तो बाबूलाल गौर इनसे खुन्नस में थे ही लेकिन मैंने पंगा ना बढ़े ये सोचकर पोस्ट हटा दी थी । पिछले महीने कोर्ट के फैसले से साबित हो गया कि व्यापमं में शिवराज सरकार को फसाने के लिये सारे फर्जी सबूत दिखाये गये थे । ये काँग्रेस का पुराना खेल था जिसका ठीकरा वो शिवराज सिंह पर फोड़ना चाहते थे ।

व्यापमं और खनन दो ही मुद्दे काँग्रेस के पास है दस साल से क्योंकि दोनों जगह इनके मोहरे पिट रहे है । भ्रष्टाचार के आरोप तो उज्जैन कुम्भ में भी लगे लेकिन कुछ साबित नही हुआ ।

अगर इस तरह के कथित भ्रष्टाचार करके शिवराजसिंह चमचमाती सड़के , हर गाँव तक सड़के , पीने के लिये नर्मदा का पानी और गाँवो तक भी 24 घंटे बिजली दे रहे है तो ये भ्रष्टाचार हमें मंजूर है ..

…काँग्रेस की गड्ढ़ों , अंधेरे और प्यासा रखने वाली सरकार से भाजपा सरकार भली ।
Ashish Retarekar

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: