कैसे मिलता है पितरों को भोजन, साथ में जानिए श्राद्ध करने से मिलते हैं कौन से लाभ?????

प्राय: कुछ लोग यह शंका करते हैं कि श्राद्ध में समर्पित की गईं वस्तुएं पितरों को कैसे मिलती है? कर्मों की भिन्नता के कारण मरने के बाद गतियां भी भिन्न-भिन्न होती हैं। कोई देवता, कोई पितर, कोई प्रेत, कोई हाथी, कोई चींटी, कोई वृक्ष और कोई तृण बन जाता है। तब मन में यह शंका … Read more

अब मैं मंदिर नही आया करूँगी

बहुत सुन्दर कथा ************** एक महिला रोज मंदिर जाती थी ! एक दिन उस महिला ने पुजारी से कहा – “अब मैं मंदिर नही आया करूँगी !” इस पर पुजारी ने पूछा — “क्यों ?” तब महिला बोली — “मैं देखती हूँ लोग मंदिर परिसर में अपने फोन से अपने व्यापार की बात करते हैं … Read more

भगवान का स्वरूप

स्वामी विवेकानंद जी को एक बार एक राजा ने अपने भवन में बुलाया और बोला : तूम हिन्दू लोग मूर्ती कि पूजा करते हो जो की मिट्टी, पीतल, पत्थर की मात्र मूर्तियाँ ही है ! पर मैं ये सब नही मानता। ये तो मात्र एक पदार्थ हैं । उसी राजा के सिंहासन के पीछे किसी … Read more

पदमा गाय

*पदमा गाय – जिसका दूध बाल कृष्ण पिया करते थे…* पदमा गाय का बड़ा महत्व है पदमा गाय किसे कहते है पहले तो हम ये जानते है। एक लाख देशी गौ के दूध को 10,000 गौ को पिलाया जाता है, उन 10,000 गौ के दूध को 100 गौ को पिलाया जाता है अब उन 100 … Read more

सत्कार

*एक थका-मांदा शिल्पकार लंबी यात्रा के बाद एक छायादार वृक्ष के नीचे विश्राम के लिए बैठ गया। अचानक उसे सामने एक पत्थर का टुकड़ा पड़ा दिखाई दिया।* *उस शिल्पकार ने उस पत्थर के टुकड़े को उठा लिया, सामने रखा और औजारों के थैले से छेनी हथौड़ी निकालकर उसे तराशने के लिए जैसे ही पहली चोट … Read more

👣 *खोइचा* (कोंछ) 👣

जब भी माँ नानी के घर जाती, आने-जाने की तारीख लगभग तय ही रहती थी । यूँ कहें तो मम्मी जानती थी कि अमुक दिन, तय समय पर नानी की देहरी छोड़नी ही है। फिर भी जब आने के समय नानी जब उन्हें पूजा घर में ले जा कर, सूप में रखी चीजों को सीधा … Read more

धर्मकथा —पहला श्रावण सोमवार कैसे करें व्रत ?

धर्मकथा —पहला श्रावण सोमवार कैसे करें व्रत ? 🙏🙏🌹🙏🙏 भोलेनाथ बहुत ही सरल स्वभाव ,सर्वव्यापी और भक्तों से शीघ्र ही प्रसन्न होने वाले देव हैं। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास के शुरू होने के बाद पांचवां मास श्रावण मास का हैं। देवशयन का यह प्रथम चातुर्मास हैं। इस मास में कथा -भागवत और अनगिनत … Read more

इंसान का मन चाहता कुछ और है,, बोलता कुछ और है ….???

बहुत साल पहले, एक व्यक्ति मेरे पास आये और बोले कि साहनी जी,, मुझे कुछ ऐसी टेक्निक सिखा दो, जिससे मैं किसी इंसान को पढ़ सकू , जान सकू, कि वो इंसान कैसा है?? क्या है ?? मुझे पता है कि आप लोगो को बहुत जल्दी पढ़ लेते हो ,,, ये कला आप के पास … Read more

एक विद्वान साधु

एक विद्वान साधु थे जो दुनियादारी से दूर रहते थे। वह अपनी ईमानदारी,सेवा तथा ज्ञान के लिए प्रसिद्ध थे। एक बार वह पानी के जहाज से लंबी यात्रा पर निकले। उन्होंने यात्रा में खर्च के लिए पर्याप्त धन तथा एक हीरा संभाल के रख लिया । ये हीरा किसी राजा ने उन्हें उनकी ईमानदारी से … Read more

“वो” देख रहा है

एक दिन सुबह सुबह दरवाजे की घंटी बजी । दरवाजा खोला तो देखा एक आकर्षक कद- काठी का व्यक्ति चेहरे पे प्यारी सी मुस्कान लिए खड़ा है ।* *मैंने कहा, “जी कहिए..”* *तो उसने कहा,* *अच्छा जी, आप तो रोज़ हमारी ही गुहार लगाते थे,* *मैंने कहा* *”माफ कीजिये, भाई साहब ! मैंने पहचाना नहीं, … Read more