शैतान का गधा

गधा पेड़ से बंधा था। शैतान आया और उसे खोल गया। गधा मस्त होकर खेतों की ओर भाग निकला और खड़ी फसल को खराब करने लगा। किसान की पत्नी ने यह देखा तो गुस्से में गधे को मार डाला। गधे की लाश देखकर गधे के मालिक को बहुत गुस्सा आया और उसने किसान की पत्नी … Read more

आप बड़े कमीने हो जी

पति- पत्नी का आपस में झगड़ा हुआ… पत्नी मायके चली गयी ये कह कर कि अब वापस कभी नहीं आएगी। दो दिन बाद पति ने फोन कर के कहा: “जानू मुझसे ग़लती हो गई मुझे माफ कर दो और घर लौट आओ।” पत्नी: “नहीं, तुमने मेरा दिल तोड़ दिया है मैं नही आऊँगी।” पति: “अरे … Read more

जो प्राप्त है-पर्याप्त है

एक अखबार वाला प्रात:काल लगभग 5 बजे जिस समय वह अख़बार देने आता था, उस समय मैं उसको अपने मकान की ‘गैलरी’ में टहलता हुआ मिल जाता था। अत: वह मेरे आवास के मुख्य द्वार के सामने चलती साइकिल से निकलते हुए मेरे आवास में अख़बार फेंकता और मुझको ‘नमस्ते बाबू जी’ वाक्य से अभिवादन … Read more

👣 *खोइचा* (कोंछ) 👣

जब भी माँ नानी के घर जाती, आने-जाने की तारीख लगभग तय ही रहती थी । यूँ कहें तो मम्मी जानती थी कि अमुक दिन, तय समय पर नानी की देहरी छोड़नी ही है। फिर भी जब आने के समय नानी जब उन्हें पूजा घर में ले जा कर, सूप में रखी चीजों को सीधा … Read more

कारगिल का वो नायक

बीस साल पहले हिमाचल प्रदेश के एक गांव से एक पत्र रक्षा मंत्रालय के पास पहुंचा। लेखक एक स्कूल शिक्षक थे और उनका अनुरोध इस प्रकार था। उन्होंने पूछा, “यदि संभव हो तो, क्या मुझे और मेरी पत्नी को उस स्थान को देखने की अनुमति दी जा सकती है जहां कारगिल युद्ध में हमारे इकलौते … Read more

म्हारो दढ़ियल इंजन

वन्दे भारत ट्रेन जब चली थी तो बहुत किस्से हुआ करते थे, अब भी हो रहे हों शायद लेकिन शुरूआती दौर में बहुत ज्यादा किस्से हुए। ये हाई स्पीड ट्रेन है चलने के पहले ही इसके दरवाजे लॉक हो जाते हैं फिर ट्रेन का मूवमेंट शुरू होता है। हम लोगों की आदत है कि पैसेंजर … Read more

परिवार है तो जीवन में हर खुशी, खुशी लगती है

एक पार्क मे दो बुजुर्ग बैठे बातें कर रहे थे…. पहला :- मेरी एक पोती है, शादी के लायक है… BE किया है, नौकरी करती है, कद – 5″2 इंच है.. सुंदर है कोई लडका नजर मे हो तो बताइएगा.. दूसरा :- आपकी पोती को किस तरह का परिवार चाहिए…?? पहला :- कुछ खास नही.. … Read more

ऊपर बैठ जाइए साहब

लस्सी का ऑर्डर देकर हम सब आराम से बैठकर एक दूसरे की खिंचाई मे लगे ही थे… कि एक लगभग 70-75 साल की माताजी कुछ पैसे मांगते हुए मेरे सामने हाथ फैलाकर खड़ी हो गईं .. उनकी कमर झुकी हुई थी ,.चेहरे की झुर्रियों मे भूख तैर रही थी ..आंखें भीतर को धंसी हुई किन्तु … Read more

पता ही नहीं चला

*पापा की परी* ससुराल जाते ही, सारा काम सीख जाती है l कभी हाथ जला, कभी बाजू जली, कभी उंगली कटी, कभी अंगूठा कटा, कभी पट्टी बांधे, कभी बैंडेड लगाए, कभी सिरप पिए, कभी दवाई खाए, कभी सिर को बांधे, बिना थके, बिना रुके, काम करती जाती । पापा की परी ससुराल जाते ही, सारा … Read more

पहले के दामाद vs अभी के दामाद

पहले के जमाने में दामाद की पूछ परख और स्वागत का तरीका भी अलग ही ढंग का होता था। जब कभी दामाद जी ससुराल जा धमकते, अफरातरफी का माहौल बन जाता था। यदि पूर्व सूचना पर आगमन होता तो क्या कहने। एक दो आदमी स्टेशन आते एक सूटकेस थामता, पहले से तय किये रिक्शे में … Read more