अभियंता दिवस विशेष

ब्रिटेन में एक ट्रेन द्रुत गति से दौड़ रही थी। ट्रेन अंग्रेजों से भरी हुई थी। उसी ट्रेन के एक डिब्बे में अंग्रेजों के साथ एक भारतीय भी बैठा हुआ था। डिब्बा अंग्रेजों से खचाखच भरा हुआ था। वे सभी उस भारतीय का मजाक उड़ाते जा रहे थे। कोई कह रहा था, देखो कौन नमूना … Read more

शैतान का गधा

गधा पेड़ से बंधा था। शैतान आया और उसे खोल गया। गधा मस्त होकर खेतों की ओर भाग निकला और खड़ी फसल को खराब करने लगा। किसान की पत्नी ने यह देखा तो गुस्से में गधे को मार डाला। गधे की लाश देखकर गधे के मालिक को बहुत गुस्सा आया और उसने किसान की पत्नी … Read more

आप बड़े कमीने हो जी

पति- पत्नी का आपस में झगड़ा हुआ… पत्नी मायके चली गयी ये कह कर कि अब वापस कभी नहीं आएगी। दो दिन बाद पति ने फोन कर के कहा: “जानू मुझसे ग़लती हो गई मुझे माफ कर दो और घर लौट आओ।” पत्नी: “नहीं, तुमने मेरा दिल तोड़ दिया है मैं नही आऊँगी।” पति: “अरे … Read more

जो प्राप्त है-पर्याप्त है

एक अखबार वाला प्रात:काल लगभग 5 बजे जिस समय वह अख़बार देने आता था, उस समय मैं उसको अपने मकान की ‘गैलरी’ में टहलता हुआ मिल जाता था। अत: वह मेरे आवास के मुख्य द्वार के सामने चलती साइकिल से निकलते हुए मेरे आवास में अख़बार फेंकता और मुझको ‘नमस्ते बाबू जी’ वाक्य से अभिवादन … Read more

रमेश और उसके 4 दोस्त

उन चारों को होटल में बैठा देख, रमेश हड़बड़ा गया. . लगभग 25 सालों बाद वे फिर उसके सामने थे. शायद अब वो बहुत बड़े और संपन्न आदमी हो गये थे. रमेश को अपने स्कूल के दोस्तों का खाने का आर्डर लेकर परोसते समय बड़ा अटपटा लग रहा था. उनमे से दो मोबाईल फोन पर … Read more

एक हाथ की क्या कहानी है?’

उस दिन ट्रेन लेट होकर रात्रि 12 बजे पहुँची। बाहर एक वृद्ध रिक्शावाला ही दिखा जिसे कई यात्री जान बूझकर छोड़ गए थे। एक बार मेरे मन में भी आया, इससे चलना पाप होगा, फिर मजबूरी में उसी को बुलाया, वह भी बिना कुछ पूछे चल दिया। कुछ दूर चलने के बाद ओवरब्रिज की चढ़ाई … Read more

अब मैं मंदिर नही आया करूँगी

बहुत सुन्दर कथा ************** एक महिला रोज मंदिर जाती थी ! एक दिन उस महिला ने पुजारी से कहा – “अब मैं मंदिर नही आया करूँगी !” इस पर पुजारी ने पूछा — “क्यों ?” तब महिला बोली — “मैं देखती हूँ लोग मंदिर परिसर में अपने फोन से अपने व्यापार की बात करते हैं … Read more

भगवान का स्वरूप

स्वामी विवेकानंद जी को एक बार एक राजा ने अपने भवन में बुलाया और बोला : तूम हिन्दू लोग मूर्ती कि पूजा करते हो जो की मिट्टी, पीतल, पत्थर की मात्र मूर्तियाँ ही है ! पर मैं ये सब नही मानता। ये तो मात्र एक पदार्थ हैं । उसी राजा के सिंहासन के पीछे किसी … Read more

सत्कार

*एक थका-मांदा शिल्पकार लंबी यात्रा के बाद एक छायादार वृक्ष के नीचे विश्राम के लिए बैठ गया। अचानक उसे सामने एक पत्थर का टुकड़ा पड़ा दिखाई दिया।* *उस शिल्पकार ने उस पत्थर के टुकड़े को उठा लिया, सामने रखा और औजारों के थैले से छेनी हथौड़ी निकालकर उसे तराशने के लिए जैसे ही पहली चोट … Read more

👣 *खोइचा* (कोंछ) 👣

जब भी माँ नानी के घर जाती, आने-जाने की तारीख लगभग तय ही रहती थी । यूँ कहें तो मम्मी जानती थी कि अमुक दिन, तय समय पर नानी की देहरी छोड़नी ही है। फिर भी जब आने के समय नानी जब उन्हें पूजा घर में ले जा कर, सूप में रखी चीजों को सीधा … Read more