तो दुनिया उन पर हंस रही थी

जब *सनातनी* एक दूसरे को हाथ जोड़ कर नमस्ते कर रहा था तो दुनिया उन पर हंस रही थी।

जब *सनातनी* हाथ पैर धोकर घर मे घुसता था तो दुनिया उन पर हंसती थी।

जब *सनातनी* जानवरों की पूजा कर रहे थे तब दुनिया उन पर हंस रही थी।

जब *सनातनी* पेड़ों और जंगलों को पूज रहे थे तब दुनिया उन पर हंस रही थी

जब *सनातनी* मुख्यतः शाकाहार पर बल दे रहे थे तब दुनिया उन पर हंस रही थी।

जब *सनातनी* योग, प्रणायाम कर रहा था तब दुनिया उन पर हंस रही थी।

जब *सनातनी* श्मशान और अस्पताल से आकर स्नान करते थे, तब भी दुनिया उन पर हंस ही रही थी।

लेकिन अब ? अब कोई नही हंस रहा, बल्कि सब यही अपना रहे हैं।

सच ही कहा गया है, *सनातनी जीवन* एक जीवन पद्धति है। ज्यों ज्यों इसकी गहराई में जाते है त्यों त्यों गहराई बढ़ती ही जाती है, जिसका कहीं अंत नहीं..

*🙏 जय श्री राम 🙏*
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Posted by: admin on Category: Corona Viral Stories, Devotional Viral Stories, Viral Stories