“वो” देख रहा है

एक दिन सुबह सुबह दरवाजे की घंटी बजी । दरवाजा खोला तो देखा एक आकर्षक कद- काठी का व्यक्ति चेहरे पे प्यारी सी मुस्कान लिए खड़ा है ।* *मैंने कहा, “जी कहिए..”* *तो उसने कहा,* *अच्छा जी, आप तो रोज़ हमारी ही गुहार लगाते थे,* *मैंने कहा* *”माफ कीजिये, भाई साहब ! मैंने पहचाना नहीं, … Read more

एक सुबह होगी 😊😊

जब लोगों के कंधों पर ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं दफ्तर का बैग होगा, गली में एंबुलेंस नहीं स्कूल की वैन होगी, और भीड़ दवाखानो पर नहीं चाय की दुकानों पर होगी, *एक सुबह होगी ❤❤* जब पेपर के साथ पापा को काढ़ा नहीं चाय मिलेगी, दादाजी बाहर निकल कर बेखौफ पार्क में गोते लगाएंगे, और दादी … Read more

बुद्धिजीवी

बुद्धिजीवी …………….. बुद्धिजीवी! जी हाँ! बुद्धिजीवी। बुद्धिजीवी का मतलब बुद्धि के बल पर जीने वाला। ये होते हैं बड़े ही एक्टीव, पर सेलेक्टिवनेस के साथ। जब जी चाहा, हो गए एक्टिव। नहीं तो शयन मुद्रा में, चले गए लम्बे विश्राम के लिए। चाहे शहर की गलियों में, दंगे-फसाद हों या फिर रक्तपात हो,आगजनी हो, लूटपाट … Read more

समस्याओं का बोझ

एक प्रोफेसर कक्षा में दाखिल हुए। उनके हाथ में पानी से भरा एक गिलास था। उन्होंने उसे बच्चों को दिखाते हुए पूछा, “यह क्या है?” छात्रों ने उत्तर दिया, “गिलास।” प्रोफेसर ने दोबारा पूछा, “इसका वजन कितना होगा ?” उत्तर मिला, “लगभग 100-150 ग्राम।” उन्होंने फिर पूछा, “अगर मैं इसे थोड़ी देर ऐसे ही पकड़े … Read more

जीवन संगिनी – धर्म पत्नी की विदाई

अगर पत्नी है तो दुनिया में सब कुछ है। राजा की तरह जीने और आज दुनिया में अपना सिर ऊंचा रखने के लिए अपनी पत्नी का शुक्रिया। आपका फुला-फला परिवार सब पत्नी की मेहरबानी हैं। आपकी सुविधा असुविधा आपके बिना कारण के क्रोध को संभालती है। तुम्हारे सुख से सुखी है और तुम्हारे दुःख से … Read more

Breathe Easy: Let your body make oxygen for you.

The blood  delivers oxygen to all  cells. When you breathe and draw fresh oxygen into your lungs, red blood cells bind with the oxygen and carry it through your bloodstream. On a cellular level, oxygen helps replace cells that wear out, supplies  energy and supports  immune system. Diet: Few antioxidant foods which boosts oxygen in body are like … Read more

लग गई माँ की बीमारी तुम्हें भी?

*अपनों का त्याग-भावना की ओट में झूठ* “नानी! मैं एक कुल्फी और ले लूं, प्लीज़” चीकू ने फ्रिज खोलते हुए पूछा। “चीकू! तुम खा चुके हो ना? गलत बात, वो कुल्फी नानी की है,हटो वहाँ से।” मैंने अपने 6 साल के बेटे को आँखे तरेरीं। लेकिन तब तक चीकू की नानी कुल्फी उसके हवाले कर … Read more

संसार में दो प्रकार के पेड़ पौधे होते हैं…

संसार में दो प्रकार के पेड़ पौधे होते हैं… प्रथम – अपना फल स्वयं दे देते हैं… जैसे – आम, अमरुद, केला इत्यादि । द्वितीय – अपना फल छिपाकर रखते हैं… जैसे – आलू, अदरक, प्याज इत्यादि । जो फल अपने आप दे देते हैं, उन वृक्षों को सभी खाद-पानी देकर सुरक्षित रखते हैं, और … Read more

क्या लिखूँॽ कैसे लिखूं ? किस तरह लिखूं?

  _सोचता हूँ कि क्या लिखूँॽ कैसे लिखूं ?और फिर किस तरह लिखूं?_ वैसे सोचने को बहुत कुछ है, परन्तु आज के भौतिकता प्रधान युग में भला आदमी अपनी रोजी रोटी के अलावा कुछ कहाँ सोचता हैॽ सोच की सारी परिधि बस रोजी–रोटी, घर गृहस्थी की आवश्यकता, पत्नी बच्चों की नित नयी नयी फरमाइशों में … Read more

क्या सच मे यह हम हैं?

पीएम, सीएम, सांसद, विधायक,पार्षद सबको गाली दे लीजिए लेकिन , यह जो 700- 800 का ऑक्सीमीटर 3000+ में बेच रहे यह हम हैं! जो ऑक्सीजन की कालाबाजारी कर रहे यह हम हैं! यह जो रेमडेसीविर को 20000+ प्लस में बेच रहे यह हम हैं! यह जो श्मशान की लकड़ियों में बेईमानी कर रहे यह हम … Read more